Friday, 13 February, 2009

चड्डियों की बहस से अनजान


सुना आपने

वैलंटाइंस डे सजधज कर तैयार है। जंग भी अपने चरम पर है। आजादी के दीवानों की और कल्चर के ठेकेदारों की। मुझे यह बहस कभी समझ नहीं आई। जब भी मैंने इस बहस के बारे में सोचा, मुझे छत्तीसगढ़ के उस छोटे से गांव में मिली 'वह' और उसकी बेटी याद आ गई। उसके याद आते ही लगा, कितनी जरूरी है वैलंटाइंस डे मनाने की आजादी और आखिर किसके लिए है यह संस्कृति? उसकी कहानी और उसके सवाल कहां हैं ? जब तक उसके सवालों के जवाब नहीं दिए जाते, तब तक क्या इस तरह की बहस फिज़ूल नहीं है?

चड्डियों की बहस से अनजान
कॉन्डम की पहुंच से दूर
वह
आज किसी और फिक्र में है।
सर्दी तो जी ली गई
बदन बिछाकर
हाथ ओढ़कर,
खुद-खुद कर
थोड़ी-बहुत हरियाली उगलती
मरियल सी जमीन के सहारे,
पर गर्मी में
गांव की सूखी, तरसती जमीन से
कैसे मांगेगी आसरा?
इस बार फिर जाना होगा
मांसल पेड़ों के जंगल में
पत्थर चुगने के लिए,
जहां कोलतार के नीचे सुबकती जमीन का
अपना ही ठिकाना नहीं।
उससे पहले खरीदनी होगी
दो मीटर रंगीन इज़्ज़त,
क्योंकि उस जंगल में
इस बार बेटी भी होगी
रोटी देने वाले पेड़ों की निगाहों के सामने।
आओ, उसे बताएं
हम तुम्हारे लिए इंतजाम कर रहे हैं
संस्कृति में लिपटी इज़्ज़त का
और वैलंटाइंस डे मनाने की
आज़ादी का।
रोटी तो खैर,
तुम्हें उन घूरते पेड़ों से ही लेनी होगी।।

Saturday, 7 February, 2009

बहुत शुक्रिया शनिदेव...

सुना आपने...

आज शनिवार है...सुबह होते ही हजारों बच्चे सड़कों पर निकल पड़े...हाथ में लटकते बर्तन...बर्तन में तेल...और तेल में डूबे लोहे के पतरे...इस लोहे के पतरे को लोग शनिदेव कहते हैं...पूजते हैं...ट्रैफिक लाइट्स और जहां-तहां उग आए शनि मंदिरों के सामने इन बच्चों की भीड़...हर गाड़ी के पास जाएंगे...शीशा उतरेगा...एक, दो, कभी-कभी पांच रुपये का सिक्का...टन्न...कुछ लोग उस तेल में मुंह भी देखना चाहते हैं...

मुझे नहीं पता कैसे इन बच्चों के दिमाग में यह बात आई होगी...कैसे इन्हें पता चला होगा कि ये बड़ी-बड़ी गाड़ियों वाले...इस लोहे के पतरे से डरते हैं...यूं किसी के मांगने पर कुछ दें न दें...पर उस पतरे के नाम पर जरूर देते हैं...पिछले कुछ सालों में शनि मंदिरों की तादाद कितनी बढ़ गई है...और मंदिरों के सामने शनिवार को लगने वाली भीड़ भी...भीड़ के साथ ही बढ़े हैं ये बच्चे...कई बच्चे क्रिएटिव होते हैं...बर्तन को सजाकर लाते हैं...लाल कपड़ा...घोटे वाला...उस बर्तन में सिक्के ज्यादा डलते होंगे शायद...शनिवार को इन्हें फटे-पुराने कपड़े भी नहीं पहनने पड़ते...बेचारा भी नहीं दिखना पड़ता...जिन्हें भिखारियों से दिक्कत है...और जिन्हें भीख मांगते बच्चों पर तरस आता है...उन्हें भी इनसे समस्या नहीं है...एक-दो रुपये देकर बलाएं टलती हैं, तो हर्ज क्या है...इन बच्चों को लेकर हमारी चिंता कितनी है? बस गाड़ी का शीशा उतारते वक्त एक दूं या दो के गणित जितनी? भला हो शनिदेव का...इन बच्चों को संभाले है...भिखारी बनाए बिना...शुक्रिया शनिदेव...

Wednesday, 4 February, 2009

मेरे लिए बच्चा पैदा कर दो, प्लीज

सुना आपने

बिल्कुल सच्ची बात है...सुनीता मां बन गई है...सुनीता फिर से मां बन गई है...सुनीता का सुनीता होना अहम नहीं है...कोई भी हो सकती है...लड़कियां भले ही कम हों, मां बनने वाली लड़कियों की हमारे यहां कोई कमी नहीं है...वैसे जिस दर से हमारे यहां बच्चे पैदा होते हैं, सुनीता का सुनीता होना और मां बनना दोनों ही अतिसामान्य घटनाएं होतीं...अगर यह बच्चा खास न होता...इसीलिए सोचा आपको भी बता दूं...सुनीता दोबारा मां बन गई है...अभी-अभी फोन आया...मैं हैरान था...क्यों? उनका तो एक बेटा है...7-8 साल का...इतने साल बाद अचानक...हां, जरूरी था...जरूरी, क्यों...ये बच्चा उसने अपने लिए पैदा नहीं किया है...यानी??...यानी सुनीता ने यह बच्चा अपनी ननद के लिए पैदा किया है...ननद के लिए...मेरी हैरत के घोड़ों की लगाम खुल चुकी थी...हां, उसकी ननद मां नहीं बन सकती...इसलिए उसने ही इल्तिजा की थी कि मेरे लिए एक बच्चा पैदा कर दो...ऐसा भी होता है????...अरे तुम तो ऐसे हैरान हो रहे हो, जैसे यह पहली बार हुआ है...नहीं पहली बार तो नहीं, लेकिन आपको पता है किराए की कोख के लिए कितनी बहस चल रही है देश-दुनिया में...तुम्हारे देश और दुनिया वाले करते होंगे ऐसी बातों पर बहस...यहां गांव में ऐसा कुछ नहीं होता...तो क्या ननद ने कहा और सुनीता मान गई?...हां, ऐसे ही होता है...वो जो रामफल है ना...कौन वो जिसका भाई मेरे साथ पढ़ता था...हां वही...रामफल का बेटा उसकी बहन ने दिया है उसे पैदा करके...और वो जो जगबीर है ना...

लो जी...दसियों कहानियां हैं ऐसी मेरे आस-पास ही...हैरत के घोड़े काफी दूर निकल गए थे...मुझे लगा अब उन्हें वापस बुला लूं...लेकिन नहीं, अभी तो हैरत का सफर बाकी था...तो सुनीता कब दे देगी उस बच्चे को अपनी ननद को...नहीं देगी...यानी बच्चा ननद को नहीं देगी?...ना...क्यों...उसकी ननद ने मना कर दिया...क्यों मना कर दिया? उसी के कहने पर तो पैदा किया...अरे ये तो पहले ही तय था...क्या...उसकी ननद ने पहले ही कहा था...लड़का हुआ तभी लूंगी...लड़की हुई है...

मैंने हैरत के सारे घोड़ों को मन के अस्तबल में बंद कर दिया है...